Connect with us

उत्तर प्रदेश

करोना काल मे चिकित्सकों की कमी अब लगी है खलने,धरती के भगवान की देश मे ये हैं हालात

Published

on

Share this with your friends:

करोना काल मे चिकित्सकों की कमी अब लगी है खलने,धरती के भगवान की देश मे ये हैं हालात

गोरखपुर।
देश में करोना संक्रमण की स्थिति भयावह होती जा रही है।हालात यह हैं कि देश को आबादी के हिसाब से जितने चिकित्सकों की जरूरत है वह ऊँट के मुंह मे जीरा के समान है।देश में डाक्टरों का
भीषण संकट है। आज हम आपको बताएंगे कि चिकित्सको की कमी से देश के हालात क्या हैं और केंद्र व प्रदेश सरकर इस मामले में अभी तक क्या निर्णय लिया है।
2021 के करोना महामारी में अभी तक 10 हजार से
ज्यादा डाक्टर कोरोना संक्रमित हो चुके
हैं। और करीब 900 डाक्टरों की मौत
हो चुकी है, कई डॉक्टर अवकाश पर हैं। अब इस कमी को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार ने निजी एवं फैमिली डाक्टरों का सहारा लिया है।
इतना ही नहीं स्वास्थ्य मंत्रालय के उस फैसले का भी विरोध हो रहा है जिसमें मेडिकल छात्रों से कोरोना मरीजों का उपचार कराने का फैसला लिया
गया है। देश भर के डॉक्टरों ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के माध्यम से यह
भी मांग की है कि संकट की इस घड़ी में होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक एवं भारतीय
चिकित्सा पद्धति के डॉक्टरों की भी सेवाएं ली जाएं। इस मांग के पीछे तर्क दिया गया है कि जब सरकार ने दूसरी
पद्धतियों के डॉक्टरों को अंग्रेजी पद्धति के डॉक्टरों के बराबर का दर्जा, वेतन एवं सुविधाएं दी है तो अब उन्हें महामारी
के समय मुख्यधारा में क्यों नहीं जोड़ा जा रहा है।
हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि मेडिकल छात्रों द्वारा उपचार करना पूरी तरह से असंवैधानिक होगा।
एक अनुमान के मुताबिक देश में लगभग चार लाख डॉक्टरों, 20 लाख नर्सों एवं सात लाख बेड की कमी है। चिकित्सा से जुड़ी इस मानव क्षमता के लिए आवश्यक संसाधन जैसे वेंटिलेटर, आईसीयू, ऑपरेशन थिएटर व वार्ड भी नहीं है। सन 2017 के रिकॉर्ड के मुताबिक एमसीआई में
कुल 10 लाख 41 हजार डॉक्टर पंजीकृत है जिसमें 1.20 लाख
सरकारी सेवा में है।
अब सवाल यह उठता है कि देश के लोगों की जान बचाने के लिए क्या मेडिकल छात्रों को मानव सेवा का अवसर दिया जाएगा।क्या होमियोपैथी व आयुर्वेद के चिकित्सकों को मेडिकल की मुख्य धारा से जोड़कर इस महामारी में उन्हें सम्मान मिल पायेगा?हालांकि देश को अभी करोना की इस महामारी में अधिक से अधिक चिकित्सको व सुविधाओ की आवश्यकता है।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Visitor Counter

free counter
Purvanchal Bharat News

हमारे बारे में-

पूर्वांचल भारत न्यूज एक रजिस्टर्ड न्यूज पोर्टल है ।
इसका उद्देश्य पूर्वांचल भारत के साथ ही देश दुनियां की खबरों व जानकारियों को हमारे दर्शकों को रोचक अंदाज में पहुंचना है। युवाओं को रोजगार सम्बन्धित जानकारी के साथ ही हर वर्ग की समस्या को हम उठा सकें यही हमारी प्राथमिकता होगी। इसके अलावा सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और जनसमस्याओं से जुड़े समाचारों पर भी हमारा विशेष ध्यान होता है ।


प्रबन्धक / निदेशक:

आदित्य धनराज
सम्पर्क सूत्र – 9621213588

मनीष कुमार 
सम्पर्क सूत्र-9140824276

प्रधान सम्पादक :

सम्पादक : अजय कुमार 
सलाहकार सम्पादक : जे०पी० गौड़
उपसम्पादक : धीरेन्द्र कुमार 
उपसम्पादक : कमलेश 

सम्पादकीय : नीतू यादव 
विज्ञापन और प्रसार प्रबन्धक: आदित्य धनराज


प्रधान कार्यालय :

कूड़ाघाट, निकट एम्स हॉस्पिटल मोहद्दीपुर, 

गोरखपुर, उo प्रo । पिन-273008

सम्पादकीय कार्यालय :

उरुवा बाजार, राम जानकी मार्ग, गोरखपुर
पिन-273407

Copyright © 2021. Powered by QTCINFOTECH

You cannot copy content of this page